जिले के दूरस्थ क्षेत्र चिकपाल में बही विकास की बयार

 दंतेवाड़ा,16 अक्टूबर 2020

जिला कलेक्टर श्री दीपक सोनी के मार्गदर्शन में जिला प्रशासन ने महज तीन माह में बदल दी चिकपाल की तस्वीर।जी हां छतीसगढ़ की राजधानी रायपुर से 400 किमी दूर दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय से करीब 30 किमी दूर स्थित चिकपाल गांवदूरस्थ और घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में शुमार हैजहां पहुँचना मात्र बेहद ही कठिन थानक्सल हिंसा के भय से काँपने को मजबूर यहाँ के परिवार की आंखे विकास देखने को तरस रही थी। सुनकर भले अचरज लगे मगर यकीन मानिए आजादी के सात दशकों के बाद भी इस गाँव ने बिजली का बल्ब तक नहीं देखा था। उस चिकपाल गांव में आज ना केवल रौशनी बिखर रही है बल्कि विकास के दम पर लोग भयमुक्त भी हो रहे हैं। जिस चिकपाल पहुँचने के लिए कई किमी पैदल सफर करना पड़ता थाआज वहां सड़क निर्माण हो गए हैं जिनसे चिकपाल पहुंच पाना अब बेहद आसान हो चुका है।

 

       दंतेवाड़ा के बीहड़ के सबसे सुदूर क्षेत्रों में शामिल चिकपाल का नाम भी जहां लोगों ने नहीं सुना था। जिला प्रशासन की पहल ने यहाँ का नाम जल्द ही विश्व पटल पर अंकित होने जा रहा है। अब यहाँ के निवासी डरेसहमे नहीं बल्कि आत्मविश्वास से लबरेज दिखने लगे गए हैं और उन्हें जीवन की नई परिभाषा समझ में आई है। यहाँ के निवासियों के राजस्व रिकॉर्ड को दुरुस्त कर उन्हें खेती बाड़ी करने के लिये प्रेरित कर आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है। जिला प्रशासन ने लोक आस्था देवगुड़ी को नमन कर उसके जीर्णोद्धार का संकल्प लिया महज तीन माह में यहां की देवगुड़ी का ऐसा कायाकल्प किया गया कि अब उसे मॉडल देवगुड़ी के रूप में देखा जाने लगा है। जिला कलेक्टर श्री दीपक सोनी ने कार्यभार ग्रहण करते ही 25 जून को अचानक जिले के घोर नक्सली क्षेत्र चिकपाल पहुंचकर वहाँ के ग्रामीणों के चेहरे पर मुस्कान ला दी। जब श्री सोनी ने उनसे पूछा आप सब कैसे हैं और आपकी समस्याएं बताइये। तो उन्होंने कहा कि सर यहां सीआरपीएफ के कैम्प के आने से हम खुद को सुरक्षित महसूस करते हैं। पर यहाँ की समस्याएं भी हैंयहां के सम्पूर्ण क्षेत्र में बिजलीपानीसड़कचिकित्साशिक्षा आदि का अभाव और ग्राम पंचायत भवनपीडीएस प्रणाली के लिए गोदाम की मांग की जिसे तत्काल स्वीकृति प्रदान कर दी गयीऔर समस्याओं का जल्द ही निराकरण करने का वादा किया। जिसका योजना बनाकर उसका क्रियान्वयन सभी विभागों द्वारा किया जा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि आधार कार्ड बनवाने के लिए बहुत दूर जाना पड़ रहा है कलेक्टर के निर्देश पर तत्काल आधार कार्ड बनाने की सुविधा प्रदान कर दी गई। स्व-सहायता समूह स्थापित करने कहा गया जो सामुदायिक खेतीपशुपालनमुर्गी पालनसब्जी उत्पादन आदि कार्य करेंगे जिससे वहीं उत्पादन करके सब्जीदूधअंडे की आपूर्ति की जा सकेगी।

       अन्य समानों के लिए वहाँ माँ दंतेश्वरी मार्ट स्थापित किया जायेगा। सभी कार्यो को समय से हो सुनिश्चित करने के लिए ब्लॉक लेबल के अधिकारियों को प्रत्येक सोमवार और गुरुवार वहाँ अनिवार्य रूप से जाने के निर्देश दिए। उसी का सुखद परिणाम अब देखने को मिल रहा है। एक नहीं दर्जनों सफलता यहां देखने को मिलेंगे आपको। यहां के राजस्व अमले के द्वारा आदर्श ग्राम पंचायत चिकपाल में चार नामांतरणदो ऋण पुस्तिका वितरण किया गया जिससे उनको अपनी जमीन पर स्वामित्व प्राप्त हो सका। 32 हितग्राहियों को पीएम किसान सम्मान निधि मिलने से उन्हें बहुत खुशी मिली साथ ही 28 लोगों की वोटर आई डी कार्ड बनवाया गया। कृषि विभाग के द्वारा आदर्श ग्राम पंचायत चिकपाल में खाद्यान्न प्रभावित डीएमएफ योजना के तहत 18 हितग्राहियों को पेट्रोल चलित पंप, 7 हितग्राहियों को विनोईंग फेनएवं 9 हितग्राहियों को स्प्रिंकलर सेट वितरीत किया गया। जिससे उन्हें अपने कृषि कार्य करने में सहायता मिल रही है। एन एफ एस एम योजना के तहत 10 हितग्राहियों को उड़द बीजडीएमएफ योजना के तहत चार हितग्राहियों को वर्मी बेड तथा आत्मा योजना के तहत 1-1-5  हितग्राही को हल्दीअदरकरागी वितरण किया गया।जिससे खेती कर उन्हें जैविक उड़दहल्दीअदरक और रागी की उपज मिल सकेगी। जिले के दुर्गमपहुंच विहीननक्सल प्रभावित चिकपाल तहसील क्षेत्र कटेकल्याण के अंतर्गत कुल 5 पारा कलेक्टर श्री दीपक सोनी के निर्देश से जगमगा उठे हैं। जब लाइट जली तो तालियां बजा कर किया स्वागत। अब यहाँ के ग्रामीण घर मे लाइटपंखाटीवीमोबाइल आदि का उपयोग कर पाएंगे सोच कर ही हो रहे खुशी से गदगद। वहाँ के पटेल पारा में 25 केवीए का ट्रांसफार्मर लगा दिया गया है एवं वहां के निवासियों के घरों में विद्युत कनेक्शन लगाने की कार्यवाही किया जा रही है। इसी प्रकार ग्राम चिकपाल की स्कूल पारा में 63 केवीए का एक नया ट्रांसफार्मर लगा दिया गया है साथ ही वहां के निवासियों के घरों में विद्युत कनेक्शन लगाने की कार्यवाही भी की जा रही है। विद्युत विभाग द्वारा गांव के विभिन्न पारा में बिजली विहीन 30 परिवारों में नवीन विद्युत कनेक्शन लिया गया ग्राम चिकपाल के जंगल पारापदामी पारामुनगा पारा को पारंपरिक तरीकों से बिजली नहीं पहुंचाया जा सकता था अतः वहां क्रेडा द्वारा सोलर पैनल लगाकर सभी घरों में लाइट दे दी गई है। शिक्षा विभाग कटेकल्याण के द्वारा प्राथमिक स्तर में 80 बालक एवं 63 बालिकाओं कुल 143 एवं माध्यमिक स्तर में 9 बालक एवं बालिकाओं कुल 13, कुल योग प्राथमिक एवं माध्यमिक में 156 बालकबालिकाओं को सूखा राशनगणवेशपाठ्य पुस्तक वितरण किया गया है। जिससे कोरोना के कारण बच्चों को घर पर ही मध्यान्ह भोजन का सूखा राशन मिला साथ ही ज्ञानगंगा सर्वर के माध्यम से उनकी पढ़ाई भी निरन्तर जारी है। पशु चिकित्सा विभाग के द्वारा बैकयार्ड कुक्कुट पालन के तहत 55 यूनिट(45 चूजा प्रति यूनिट) वितरण किया गया।जिससे वे आजीविका से जुड़ पाएंगे। उद्यानिकी विभाग के द्वारा आर के राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत सब्जी हाईब्रिड मिनीकिट एवं मनरेगा योजना अंतर्गत शासकीय आदर्श ग्राम पंचायत चिकपाल में 1800 फलदार पौधे वितरित किए गए। देवगुड़ी में 150 फलदार पौधे लगाए गए। जिससे न केवल गाँव हराभरा होगा बल्कि सब्जी और फल उत्पादन से यहां के ग्रामीणों को आय भी प्राप्त होगी। महिला बाल विकास एवं एकीकृत बाल विकास परियोजना कटेकल्याण अंतर्गत सेक्टर में ग्राम पंचायत चिकपाल में कुल-05 आंगनबाड़ी केन्द्र संचालित है। कोविड-19 के दौरान आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं के द्वारा माह जुलाई 2020 में 213 हितग्राही अगस्त 2020 में 226, एवं सितम्बर 2020 में 227 हितग्राहीयों को रेडी टु ईट फुड एवं सूखा राशन से लाभांवित किया गया है। चिकपाल ग्राम पंचायत में पिछले तीन माह में 6-3 वर्ष के सामान्य एवं कुपोषित बच्चेगर्भवती माताशिशुवती माता, 3-6 वर्ष के कुपोषित बच्चे एवं किशोरी बालिकाओं को रेडी टू ईट फुड टी.एच. आर. के रूप में एवं 3-6 वर्ष के सामान्य बच्चों को सूखा राशन हितग्राहियों के घरों में पहुँचाया गया। साथ ही आगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के द्वारा गृह भेंट के माध्यम से नियमानुसार दूरी का पालन करते हुए हितग्राहियों के अभिभावकों एवं हितग्राहियों को स्वच्छतानियमित पोष्टिक आहारअन्य लोगों से दूरी बनाये रखनेभीड़-भाड़ वाले जगहों से दूर रहने की सलाह दी गई। वन विभाग के द्वारा विभिन्न प्रकार के 1 हजार पौधे वितरित किए गए और साथ ही उसका वृक्षारोपण किया गया। सौर ऊर्जा विभाग द्वारा सौर ऊर्जा मोटर पंप एवं पानी टंकी शेड निर्माण स्कूल पारा चिकपाल में किया गया है। जनपद पंचायत कटेकल्याण द्वारा 14वें वित्त से पंचायत भवन जीर्णोद्धार 2.41 लाखआंगनबाड़ी भवन जीर्णोद्धार 1.47 लाखपंचायत भवन के सामने शेड निर्माण 0.79 लाखअस्पताल के सामने शेड निर्माण 0.77 लाख डीएमएफ मद से आंगनबाड़ी भवन पटेल पारा में अहाता निर्माण कार्य 1.67 लाखखेल मैदान निर्माण कार्य 14.55 लाख एवं बाउंड्री निर्माण कार्य स्कूल पारा 17.92 लाख।इस प्रकार कुल 7 कार्य कुल राशि 39.58 लाख का कार्य विगत 3 माह में पूर्ण किया गया। इन कार्यों से चिकपाल में विकास की बयार बह चली हैग्रामीणों को आने जाने के लिए सड़कबच्चों के खेलने के लिए मैदानआंगनबाड़ीअस्पतालपंचायत भवनअपनी सांस्कृतिक धरोहर देवगुड़ी का नया रूप आदि कई सौगात मिली है जो निरन्तर जारी रहेगी। यहाँ के लोग आत्मनिर्भर होंगेशिक्षास्वास्थ्यरोजगार तथा आय के साधन मिलने से उनकी आर्थिक स्थिति भी सुधरेगी। दंतेवाड़ा का गरीबी उन्मूलन का संकल्प पूरा हो सकेगा।

स.क्र./1056/दानेश्वरी

 

Source: http://dprcg.gov.in/