उत्तर बस्तर कांकेर 24 अक्टूबर 2020

मछली पालन विभाग के सहायक संचालक ने मत्स्यपालन हेतु भ्रामक विज्ञापनों से सावधान रहने की अपील करते हुए कहा है कि कुछ अशासकीय संस्थाआें एवं फर्म द्वारा मत्स्य कृषकों की भूमि पर तालाब निर्माण करवाकर मछली पालन का व्यवसाय करवाने के  नाम पर विभिन्न योजना प्रसारित की जा रही है। इन संस्थाओं द्वारा कृषकों से बड़ी राशि लेकर उनकी ही भूमि पर मत्स्यपालन का व्यवसाय करने एवं उन्हें एक निश्चित मासिक आय का प्रलोभन दिया जा रहा है। कान्ट्रेक्ट फार्मिंग या राशि दुगुना करने जैसे नाम से ये प्रस्ताव ऐसी फर्म्स दे रही है।
सहायक संचालक मछली विभाग कांकेर ने कहा है कि मछली पालन विभाग अथवा छत्तीसगढ़ शासन ऐसी किसी भी योजना को प्रमाणित नहीं करता है। अतः कोई भी मत्स्य कृषक ऐसी किसी भी योजना से स्वयं विचार कर एवं वैधानिक तथा आर्थिक पक्षों को भलीभांति समझ-बूझकर ही राशि का निवेश करें। अन्यथा शासन या मछली पालन विभाग किसी भी प्रकार से जिम्मेदार नहीं होगा।  
क्रमांक/1308/ सुरेन्द्र ठाकुर

Source: http://dprcg.gov.in/