नारायणपुर, 24 अक्टूबर 2020 

कलेक्टर ने जिले में वर्तमान में कोरोना पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या में हो रही वृद्धि को रोकने एवं नियंत्रण में रखने हेतु आगामी दशहरा पर्व अंतर्गत जिले के विभिन्न स्थानों में संभावित पुतला दहन कार्यक्रम को दृष्टिगत रखते हुए पुतला दहन के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किये है। जारी दिशा-निर्देश में कहा गया है कि पुतलों की ऊंचाई 10 फीट से अधिक नहीं होना चाहिये। पुतला दहन किसी बस्ती रहवासी इलाके में नहीं किया जाये, पुतला दहन खुले स्थान पर करें, पुतला दहन कार्यक्रम में समिति के मुख्य पदाधिकारी सहित किसी भी हाल में 50 व्यक्तियों से अधिक व्यक्ति शामिल नहीं होंगे। आयोजन के दौरान केवल पूजा करने वाले व्यक्ति शामिल होंगे। अनावश्यक भीड़ एकत्रित न होने देने की जिम्मेदारी आयोजकों की होगी। कार्यक्रम का यथासंभव ऑनलाईन माध्यमों आदि से प्रसारण कराये। पुतला दहन के दौरान आयोजन का विडियोग्राफी कराया जाये तथा वीडियोग्राफी इस प्रकार किया जाए कि प्रवेश द्वार से आने एवं जाने वाले व्यक्तियों की प्रारम्भ से अंत तक वीडियोग्राफी रहे। इस हेतु वीडियोग्राफर की व्यवस्था आयोजको द्वारा की जाएगी। आयोजक एक रजिस्टर संधारित करेंगे एवं पुतला दहन कार्यक्रम में आने वाले सभी व्यक्तियों का नाम, पता, मोबाइल नंबर दर्ज करें एवं आयोजन करने वाले व्यक्ति अथवा उनमें से कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित होने पर कांटेक्ट ट्रेसिंग किया जा सके।

प्रत्येक समिति एवं आयोजक समय पूर्व सोशल मीडिया में यह जानकारी देंगे कि कोविड-19 कोरोना को दृष्टिगत रखते हुए कार्यक्रम सीमित रूप से करें। पुतला दहन में कहीं भी सांस्कृतिक कार्यक्रम, नृत्य डांडिया, स्वागत, भंडारा, प्रसाद वितरण, पंडाल लगाने की अनुमति नहीं होगी। आयोजन में उपस्थित प्रत्येक व्यक्ति को सोशल/फिजिकल डिस्टेसिंग, मास्क लगाना एवं समय-समय पर सेनेटाईजर का उपयोग करना अविवार्य होगा। रावण दहन स्थल से 100 मीटर के दायरे में आवश्यकतानुसार अनिवार्यतः बेरिकेटिंग कराये। आयोजन के दौरान किसी भी प्रकार के वाद्ययंत्र, ध्वनि विस्तारक यंत्र डीजे धुमाल, बैंड पार्टी बजाने की अनुमति नहीं होगी। रावण पुतला दहन में किसी भी प्रकार के अतिरिक्त साज-सज्जा, झांकी की अनुमति नहीं होगी। अनुमति उपरांत समिति द्वारा सेनेटाईजर, थर्मल स्क्रीनिंग, ऑक्सीमीटर, हैंडवास एवं क्यू मैनेजमेंट सिस्टम की व्यवस्था की जायेगी। थर्मल स्क्रीनिंग में बुखार पाये जाने अथवा कोरोना से संबंधित कोई भी सामान्य या विशेष लक्षण पाये जाने पर कार्यक्रम में प्रवेश नहीं देने की जिम्मेदारी समिति अथवा आयोजकों की होगी। कार्यक्रम आयोजन के दौरान अग्नि-शमन की पर्याप्त व्यवस्था अनिवार्य रूप से करें।

आदेश में यह भी गया है कि आयोजन के दौरान यातायात नियमों का पालन करें और यातायात बाधित न हो इस बात का विशेष ध्यान रखें। कम से कम 50 दो पहिया वाहन हेतु पार्किंग की पृथक से व्यवस्था करनी होगी। आयोजन के दौरान एनजीटी व शासन के द्वारा प्रदूषण नियंत्रण के लिये निर्धारित मानकों, कोलाहल अधिनियम, भारत सरकार, सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों का अनिवार्य रूप से पालन करें। नियमों के उल्लंघन करने पर समिति/आयोजक जिम्मेदार होंगे। यदि कोई व्यक्ति जो पुतला दहन स्थल पर जाने के कारण संक्रमित हो जाता है तो इलाज का संपूर्ण खर्च पुतला दहन आयोजकों/समिति द्वारा किया जायेगा। कंटेनमेंट जोन में पुतला दहन की अनुमति नहीं होगी। यदि पुतला दहन कार्यक्रम के अनुमति के पश्चात उपरोक्त क्षेत्र में कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित हो जाता है तो तत्काल कार्यक्रम निरस्त माना जायेगा एवं कंटेनमेंट जोन के समस्त निर्देशों का अनिवार्य रूप से पालन करना होगा। एक आयोजन स्थल से दूसरे आयोजन स्थल की दूरी 1 किलोमीटर से कम न हो। आयोजन स्थल के लिये पहले आओ, पहले पाओ नीति के तहत पहले प्राप्त आवेदनों को प्राथमिकता दी जायेगी।
इन सभी शर्ताे के अतिरिक्त भारत सरकार, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी एसओपी का पालन अनिवार्य रूप से करना होगा। दिये गये शर्ताे का उल्लंघन अथवा किसी प्रकार का अव्यवस्था होने पर इसकी समस्त जिम्मेदारी आयोजन समिति की होगी, जिनके विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। उक्त शर्ताे के अधीन 10 दिवस के पूर्व तहसीलदार के समक्ष निर्धारित शपथ पत्र मय आवेदन देना होगा एवं अनुमति प्राप्त होने के उपरांत ही पुतला दहन की अनुमति होगी। कोई भी अनुमति किसी भी समय जिला दण्डाधिकारी/अनुविभागीय अधिकारी द्वारा बिना कारण बताए निरस्त की जा सकती है। यह निर्देश तत्काल प्रभावशील होगा तथा निर्देश का उल्लंघन करने पर एपिडेमिक डिसीज एक्ट एवं विधि अनुकुल नियमानुसार अन्य धाराओं के तहत कठोर कार्यवाही की जायेगी।
एस.शुक्ल/राहुल/1064

बच्चे को लगी नशे की आदत, काउंसलिंग से हुआ सुधार

नारायणपुर, 24 अक्टूबर 2020 – आकाश (बदला हुआ नाम) कक्षा आठवीं का छात्र, शान्त स्वभाव का वह 13 वर्षीय बालक पढ़ाई में होनहार है। कोरोना और लॉकडाउन के बाद से स्कूल बंद हो गए हैं। जिसके कारण उसके स्वभाव में थोड़ा परिवर्तन होने लगा। किसी भी समय अपने पसंद के चीजों की डिमांड करना उसकी आदत बनने लगी थी। वह अपनी बात मनवाने के लिये ज़िद भी करने लग गया था। शुरुआती महिनों में घरवालों ने मजबूरी के कारण इन हरकतों को नजर अंदाज किया । लेकिन आकाश का स्वभाव अब ज्यादा बिगड़ने लग गया। बेवजह गुस्सा करना, अकेले रहना, पढ़ाई नही करना, माता- पिता की बातों को नही मानना ये आकाश की दिनचर्या होने लगी थी। जिला अस्पताल नारायणपुर की क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट प्रीति चांडक ने बताया- टेलिफ़ोनिक काउंसलिंग के दौरान आकाश ने बताया  घर से बाहर निकलने में उसे अब डर लगता है, किसी से बात करना अच्छा नहीं लगता। अपने अकेलेपन को दूर करने के लिये वह घरवालों से छुपकर धूम्रपान करने लग गया था। वह ठीक होना चाहता हैपर अपनी आदत को सुधार नही पा रहा है।

कोरोनाकाल के कारण बच्चों में तनाव बढ़ रहा है। ऐसे में नकारात्मक विचार आना स्वाभाविक है। धीरे-धीरे यह अवसाद का रूप ले सकता है। बच्चे अलग-अलग तरह की गतिविधियाँ करने लगते हैं। ऐसे में उनके दिमाग में कई तरह की धारणाएं बनती हैं। अभिभावकों को इस पर नजर रखनी चाहिए। बच्चे को अधिक विश्वास दिलाने का सबसे अच्छा तरीका है अच्छा श्रोता बन जाना। अभिभावक को बच्चों की बातों और आशंकाओं को  सुनना चाहिए, पर उनकी आलोचना नहीं करनी चाहिए। उन्हें बिना किसी दखल के ज्यादा से ज्यादा सुनें। इससे यह भावना आएगी कि उन्हें सुना जा रहा है। फिर वे मन की हर बात बता  पाएंगे। व्यायाम और हेल्दी फूड भी उन्हें तनाव मुक्त रखने में मदद कर सकते हैं। बच्चों से महामारी के बारे में बात करने से बचना चाहिए।

प्रीति चांडक ने बताया “महामारी के इस दौर में बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए खासतौर से दिक्कतें हो सकती हैं। स्कूल बन्द हैं, उन्हें हर समय घरों में रहना पड़ रहा है। इसकी वजह से बच्चे भी तनाव की चपेट में आ रहे हैं। आजकल बच्चों में चिंता, और अवसाद सबसे आम समस्याएं बन गयी हैं, जिसका असर उनके व्यवहार पर भी पड़ रहा है। आकाश की काउंसलिंग के दौरान उसे माइंडफुलनेस एक्टिविटी कराई गई ताकि वह अपने मन को शांत रख सके। इमोशन रेगुलेशन के द्वारा उसके जिद्दी स्वभाव में सुधार किया गया।  इसके अलावा आकाश के माता-पिता की भी काउंसलिंग की गई, उन्हें बताया गया कि बच्चों के साथ अपना महत्वपूर्ण समय बिताएं, फ्रेंडली व्यवहार रखे, खेल-खेल में उनसे काम करवाएं और उनके काम की प्रशंसा करें। ऑनलाइन क्लासेस के बाद खाली समय मे बच्चों से रचनात्मक कार्य कराएं। धीरे-धीरे इन प्रयासों से आकाश के आदत में सुधार होने लगा और उसने धूम्रपान करना भी छोड़ दिया।

अभिभावकों को कोरोनाकाल  में अपने बच्चों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। बच्चे अक्सर गुस्से की समस्या से जूझते हैं। उन्हें अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का सही तरीका नहीं आता। अगर आपके बच्चे को बार-बार गुस्सा आ रहा है, तो ऐसी कोई बात ज़रूर है जो उसे परेशान कर रही हैं। व्यस्कों की तरह तनाव में बच्चों के लिए भी सोना मुश्किल हो जाता है। अगर बच्चा तनाव में है तो वह भी रात में सो नहीं पाएगा। तनाव की स्थिति में उसके खानपान में बदलाव आ सकता  है, वह या तो ज्यादा खाएगा या उसे भूख नहीं लगेगी। ज़््यादा खाना या भूख न लगना बच्चों में तनाव के अहम लक्षण हैं। बच्चे और चिड़चिड़ापन दोनों में गहरा रिश्ता है, लेकिन अगर आपका बच्चा अक्सर ऐसे मूड में दिखता है, तो समझ जाइए कि कोई चीज़ उसे ज़रूर परेशान कर रही है। चिड़चिड़ेपन के साथ गुस्सा आम है। ऐसे में आपको उससे ज़रूर बात करनी चाहिए। साथ ही अगर उनके व्यवहार में अचानक फर्क दिखने लगता है, तो आपको उन पर खास ध्यान देना चाहिए।
बच्चों की अच्छी आदतें डालने में मदद करें। जैसे पढ़ना, बागबानी और कुकिंग, अच्छी किताबें और उपन्यास पढ़ने से उन्हें अच्छा ज्ञान पाने में मदद मिलेगी और वे बेहतर इंसान बन पाएंगे। हालांकि बाकी शौक भी पढ़ने जितने ही जरूरी हैं। यह उनकी रुचि पर निर्भर करता है। अच्छी आदत जो भी हो, पैरेंट को उसे विकसित करने में बच्चे की मदद करनी चाहिए। बच्चों की अनुशासित और लक्ष्य आधारित जीवन अपनाने में मदद करनी चाहिए। बच्चों को अच्छी सेहत, ज्ञान और सामाजिक जिम्मेदारियों के महत्व के बारे में पता होना चाहिए। और यह सब तभी हासिल किया जा सकता है, जब वे अनुशासन में हों और उनका ध्यान केंद्रित हो।
एस.शुक्ल/राहुल/1065

Source: http://dprcg.gov.in/