DA Image

आज हरछठ है। इसे हलषष्टी, ललई छठ और हल छठ के नाम से भी जाना जाता है। आज बलराम जयंती है। हरछठ व्रत बलराम जी की तरह बलशाली पुत्र की प्राप्ति के लिए भी किया जाता है। हरछठ के नाम से होने वाली जयंती के दिन संतान की कामना को लेकर महिलाएं व्रत रखती हैं। हलछठ व्रत भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की षष्ठी तिथि को होता है। षष्ठी तिथि 27 अगस्त को शाम 6:50 बजे लगेगी और 28 अगस्त को रात्रि 8:55 बजे तक रहेगी।

आज प्रात: 9 बजे से प्रात: 10.30 बजे तक राहुकाल रहेगा। सूर्य दक्षिणायण। सूर्य उत्तर गोल। शरद ऋतु। 28 अगस्त 2021, शनिवार, 6 भाद्रपद (सौर) शक 1943, 13 भाद्रपद मास प्रविष्टे 2078, 18 मुहर्रम सन् हिजरी 1443, भाद्रपद कृष्णषष्ठी रात्रि 8 बज कर 57 मिनट तक उपरांत सप्तमी। भरणी नक्षत्र रात्रि 3 बज कर 35 मिनट तक तदनंतर कृत्तिका नक्षत्र, ध्रुव योग अहोरात्र (दिन-रात)। वणिज करण। चंद्रमा मेष राशि में (दिन-रात)।    

पं. वेणीमाधव गोस्वामी