Hindustan Hindi News

Panchanga : धार्मिक और ज्योतिष नजरिए से महत्वपूर्ण है 18 अगस्त तक का समय, जानें क्या है खास

इस सप्ताह जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जाएगा। इसके अलावा भारत अपना 76वां स्वतंत्रता दिवस मनाएगा। ग्रहों के गोचर की बात करें तो 17 अगस्त को सूर्य सिंह राशि में गोचर करेगा। शुभ मुहूर्त के संबंध में, इस सप्ताह वाहन खरीदने से संबंधित गतिविधियों की योजना बना सकते हैं क्योंकि अनुकूल समय उपलब्ध है। आइए देखें 12 से 18 अगस्त का पंचांग-

शुभ मुहूर्त इस सप्ताह

  • वैदिक ज्योतिष के अनुसार, किसी शुभ मुहूर्त के दौरान किए गए कार्य को सफलतापूर्वक पूरा करने की संभावना काफी बढ़ जाती है। एक शुभ मुहूर्त हमें हमारे भाग्य के अनुसार सर्वोत्तम संभव परिणाम प्रदान करता है यदि हम ब्रह्मांडीय समय के अनुरूप कार्य निष्पादित करते हैं। इसलिए किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत करते समय मुहूर्त का ध्यान रखना जरूरी है। विभिन्न गतिविधियों के लिए इस सप्ताह का शुभ मुहूर्त इस प्रकार है:

विवाह मुहूर्त : विवाह के लिए इस सप्ताह कोई शुभ मुहूर्त नहीं है
गृह प्रवेश मुहूर्त: गृह प्रवेश के लिए इस सप्ताह कोई शुभ मुहूर्त उपलब्ध नहीं है
संपत्ति खरीद मुहूर्त: संपत्ति खरीदने या पंजीकृत करने के लिए इस सप्ताह कोई शुभ मुहूर्त उपलब्ध नहीं है
वाहन खरीद मुहूर्त: इस सप्ताह वाहन खरीदने का शुभ मुहूर्त 11 अगस्त (सुबह 10:38 बजे से 04:07 बजे, 12 अगस्त) और 12 अगस्त (06:05 पूर्वाह्न से 03:46 पूर्वाह्न, 13 अगस्त) को उपलब्ध है।

आगामी ग्रह गोचर इस सप्ताह

  • वैदिक ज्योतिष में, ग्रहों का गोचर विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि वे जीवन में परिवर्तन और प्रगति का अनुमान लगाने का प्रमुख तरीका हैं। ग्रह दैनिक आधार पर चलते हैं और इस प्रक्रिया में कई नक्षत्रों और राशियों से गुजरते हैं। यह हमें घटनाओं की प्रकृति और विशेषताओं को समझने में सहायता करता है जैसे वे घटित होती हैं। यहां देखें इस सप्ताह के ग्रह गोचर:
यह भी पढ़ें:   Aaj ka panchang 16 September: आज गुरुवार को बन रहे पूजा के शुभ मुहूर्त, शुभ मुहूर्त से जानिए तिथि और भद्रा

14 अगस्त रविवार को सुबह 10:38 बजे सूर्य और शनि 180 डिग्री के कोण पर
केतु का गोचर विशाखापद 16 अगस्त मंगलवार को सुबह 5:55 बजे होगा
17 अगस्त बुधवार को सुबह 7 बजकर 37 मिनट पर सूर्य सिंह राशि में प्रवेश करेगा
बुध 18 अगस्त गुरुवार को सुबह 10:40 बजे उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र में प्रवेश करेगा।

भाद्रपद मास कल से होगा प्रारंभ, जानें सभी राशियों के लिए कैसा रहेगा ये माह, पढ़ें मेष से लेकर मीन राशि तक का हाल

इस सप्ताह आने वाले त्यौहार
संस्कृत दिवस (शुक्रवार, 12 अगस्त)
: यह संस्कृत भाषा के महत्व को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है। संस्कृत दिवस प्रतिवर्ष श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। वैदिक भाषा को बढ़ावा देने के लिए संस्कृत दिवस के दिन विभिन्न गतिविधियों, संगोष्ठियों और कार्यशालाओं का आयोजन किया जाता है।
कजरी तीज (रविवार, 14 अगस्त): यह भाद्रपद के चंद्र मास के दौरान कृष्ण पक्ष के तीसरे दिन मनाया जाता है। यह हरियाली तीज के 15 दिनों के बाद आता है। कजरी तीज मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान में मनाई जाती है। कुछ जगहों पर इस त्योहार को बूढ़ी तीज और सतोदी तीज के नाम से भी जाना जाता है।

नाग पंचम (मंगलवार, 16 अगस्त): गुजरात में, नाग पंचम गुजराती कैलेंडर में श्रावण माह के दौरान कृष्ण पक्ष पंचमी पर मनाया जाता है। गुजराती कैलेंडर में, चंद्र माह अमावस्या के बाद शुरू होता है यानी अमावस्या के दिन। इसलिए उत्तर भारतीय राज्यों में पालन किए जाने वाले पूर्णिमांत कैलेंडर के अनुसार, गुजरात में नाग पंचम भाद्रपद महीने के दौरान मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें:   Today Panchang 18 November 2021: दोपहर 12 बजे से पूर्णिमा तिथि आरंभ, जानिए आज के सभी शुभ-अशुभ मुहूर्त

अशुभ राहु काल-

वैदिक ज्योतिष के अनुसार राहु एक अशुभ ग्रह है।  राहु के प्रभाव में आने वाले समय में कोई भी शुभ कार्य करने से बचना चाहिए। इस समय के दौरान शुभ ग्रहों को प्रसन्न करने के लिए पूजा, हवन या यज्ञ करना राहु के पापी स्वभाव के कारण बाधित होता है। कोई भी नया काम शुरू करने से पहले राहु काल पर विचार करना जरूरी है। ऐसा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति की संभावना बढ़ जाती है। इस सप्ताह के लिए राहु काल का समय निम्नलिखित है:-

12 अगस्त: 10:48 पूर्वाह्न से 12:23 अपराह्न
13 अगस्त: 09:14 पूर्वाह्न से 10:48 पूर्वाह्न
14 अगस्त: 05:05 अपराह्न से 06:40 अपराह्न
15 अगस्त: 07:39 पूर्वाह्न से 09:14 पूर्वाह्न तक
16 अगस्त: दोपहर 03:30 बजे से शाम 05:05 बजे तक
अगस्त 17: 12:22 अपराह्न से 01:56 अपराह्न
18 अगस्त: 01:56 अपराह्न से 03:30 अपराह्न

पंचांग वैदिक ज्योतिष में प्रचलित ग्रहों की स्थिति के आधार पर दिन-प्रतिदिन के कार्यों को करने के लिए शुभ और अशुभ समय निर्धारित करने के लिए उपयोग किया जाने वाला कैलेंडर है। इसमें पांच तत्व शामिल हैं – वार, तिथि, नक्षत्र, योग और करण। पंचांग का सार दैनिक आधार पर सूर्य (हमारी आत्मा) और चंद्रमा (मन) के बीच का अंतर्संबंध है। पंचांग का उपयोग वैदिक ज्योतिष की विभिन्न शाखाओं जैसे कि जन्म, चुनाव, प्रश्न (हॉरी), धार्मिक कैलेंडर और दिन की ऊर्जा को समझने के लिए किया जाता है। हमारे जन्म का दिन पंचांग हमारी भावनाओं, स्वभाव और स्वभाव को दर्शाता है। यह इस बारे में अधिक जानकारी प्रदान कर सकता है कि हम कौन हैं और हम कैसा महसूस करते हैं। यह ग्रहों के प्रभाव को बढ़ा सकता है और हमें अतिरिक्त विशेषताओं के साथ प्रदान कर सकता है जिसे हम केवल हमारे जन्म चार्ट के आधार पर नहीं समझ सकते हैं। पंचांग जीवन शक्ति ऊर्जा है जो जन्म कुंडली का पोषण करती है।

यह भी पढ़ें:   Aaj ka panchang 2 June 2022: रम्भा तृतीया व्रत आज, शुभ पंचांग से जानें आज के शुभ मुहूर्त