20 अक्टूबर, शुक्रवार, 28 आश्विन (सौर) शक संवत् 1945, 04 कार्तिक मास प्रविष्टे (पंजाब पंचांग) 2080, 04 रबिउल्सानी 445, आश्विन शुक्ल षष्ठी रात्रि (विक्रमी संवत्) रात्रि 11. 25 मिनट तक, मूल नक्षत्र रात्रि 08. 41 बजे तक तदनंतर पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र, अतिगंड योग रात्रि, सूर्योदय से पूर्व 03.02 मिनट तक, कौलव करण, चंद्रमा धनु राशि में (दिन-रात)। सूर्य दक्षिणायन। सूर्य दक्षिण गोल। शरद ऋतु। प्रात 10.30 बजे से दोपहर 12 बजे तक राहुकालम्। बिल्व निमंत्रण। सरस्वती देवी का आह्वान मूल में।

सूर्योदय- 06:25 ए एम
सूर्यास्त- 05:47 पी एम
चन्द्रोदय- 11:47 ए एम
चन्द्रास्त- 09:55 पी एम

आज के शुभ मुहूर्त-

ब्रह्म मुहूर्त- 04:44 ए एम से 05:34 ए एम
प्रातः सन्ध्या- 05:09 ए एम से 06:25 ए एम
अभिजित मुहूर्त- 11:43 ए एम से 12:28 पी एम
विजय मुहूर्त- 01:59 पी एम से 02:45 पी एम
गोधूलि मुहूर्त- 05:47 पी एम से 06:12 पी एम
सायाह्न सन्ध्या- 05:47 पी एम से 07:03 पी एम
अमृत काल- 02:23 पी एम से 03:58 पी एम
निशिता मुहूर्त- 11:41 पी एम से 12:31 ए एम, अक्टूबर 21
रवि योग- 06:25 ए एम से 08:41 पी एम

आज के अशुभ मुहूर्त-

Click here to preview your posts with PRO themes ››

राहुकाल- 10:40 ए एम से 12:06 पी एम
यमगण्ड- 02:56 पी एम से 04:22 पी एम
आडल योग- 08:41 पी एम से 06:25 ए एम, अक्टूबर 21
विडाल योग- 06:25 ए एम से 08:41 पी एम
गुलिक काल- 07:50 ए एम से 09:15 ए एम